KATHA

TULSI VIVAH VRAT KATHA | तुलसी विवाह व्रत कथा

प्राचीन काल में एक जलंधर नाम का असुर था। जिसका विवाह वृंदा नाम की कन्या से हुआ। वृंदा भगवान विष्णु की भक्त थीं। वहीं वृंदा पतिव्रता भी थी। इसी कारण जलंधर अजेय हो गया। वहीं असुर जलंधर को इस बात का घमंड भी हो गया। इसके बाद वह स्वर्ग की कन्याओं को परेशान करने लगा। जब सभी देवता इस बात से दुःखी हो गए तो वह भगवान विष्णु की शरण में पहुंचे।[…]

साईं के ये 11 वचन करते हैं

– साईं बाबा को एक चमत्कारी पुरुष, अवतार और भगवान का स्वरुप माना जाता है.– इनको भक्ति परंपरा का प्रतीक माना जाता है.– साईं बाबा का जन्म और उनसे जुड़ी दूसरी चीजें अभी अज्ञात हैं.– इनका मूल स्थान महाराष्ट्र का शिरडी है, जहां पर भक्त इनके स्थान के दर्शन के लिए जाते हैं.[…]

MOHINI EKADASHI 2020: मोहिनी एकादशी

धृष्ठबुद्धि ने महर्षि की बताई विधि अनुसार वैशाख शुक्ल एकादशी यानी मोहिनी एकादशी का उपवास किया। इसके बाद धृष्ठबुद्धि को पाप कर्मों से छुटकारा मिला और मोक्ष की प्राप्ति हुई।[…]

%d bloggers like this: